Thursday, February 2, 2023
Home उत्तराखंड सुरंग बनना न टलता तो 1928 में मसूरी पहुंच जाती रेल

सुरंग बनना न टलता तो 1928 में मसूरी पहुंच जाती रेल

नई पीढ़ी के बहुत कम लोगों को जानकारी होगी कि ब्रिटिश हुकूमत के दौर में देहरादून से पहाड़ों की रानी मसूरी के लिए रेल लाइन बिछाने का काम शुरू हो गया था। लेकिन, देहरादून से लगे राजपुर गांव के निकट घने जंगल में सुरंग बनाने के दौरान हुए हादसे ने अंग्रेजों की उम्मीदें धराशायी कर दीं। हालांकि, इसके बाद एक बार फिर कोशिश की गई, लेकिन सुरंग का पहाड़ धंसने के कारण योजना परवान नहीं चढ़ पाई। आइए! हम भी इस सुनहरे अतीत से परिचित हो लें।

दो साल के भीतर मसूरी रेल ले जाना चाहते थे अंग्रेज
कहानी शुरू होती है रेल के देहरादून पहुंचने से। इसके लिए वर्ष 1894 में देहरादून-हरिद्वार के बीच ट्रैक बिछाने का कार्य शुरू हो चुका था। वर्ष 1899 में यह ट्रैक बनकर तैयार हुआ और वर्ष 1900 से देहरादून-हरिद्वार के बीच रेल चलनी शुरू हो गई। उस दौर में अंग्रेजों ने व्यापार और हुकूमत, दोनों के लिए देहरादून रेलवे स्टेशन का भरपूर उपयोग किया। इस स्टेशन के निर्माण के बाद अंग्रेज अधिकारियों के लिए मसूरी समेत गढ़वाल रियासत के विभिन्न हिस्सों में पहुंचना आसान हो गया था। लेकिन, अपनी सोच एवं तकनीकी के लिए मशहूर अंग्रेजों के कदम भला इतने में ही कहां रुकने वाले थे। सो, वह देहरादून शहर से 12 किमी दूर राजपुर गांव से मसूरी तक रेल ले जाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने लगे। इसके लिए सर्वे का कार्य तो वे पहले ही पूरा कर चुके थे। उन्होंने राजपुर गांव के पास सुरंग बनानी शुरू की, जिससे होते हुए रेल ट्रैक को मसूरी पहुंचाया जाना था। अंग्रेज अधिकारी चाहते थे कि अगले दो सालों में वह मसूरी रेल ले जाने के सपने को हकीकत में बदल डालें।

दो बार हुआ था रेल लाइन बिछाने को सर्वे
अंग्रेजों ने पुरानी मसूरी के निकट रेलवे ट्रैक बिछाने के लिए दो बार सर्वे किया। पहला सर्वे हर्रावाला से राजपुर गांव होते हुए मसूरी तक वर्ष 1885 में किया गया। वर्ष 1893 में रेल लाइन बिछाने का मसौदा भी तैयार कर लिया गया। इसके तहत अवध एंड रुहेलखंड रेलवे कंपनी की योजना राजपुर होते हुए मसूरी तक रेलगाड़ी ले जाने की थी। मसूरी के लिए रेल ले जाने का दूसरा प्रयास वर्ष 1920-21 में हुआ। तब हिन्दुस्तान के कुछ राजे-रजवाड़ों ने अंग्रेजों के साथ मिलकर मसूरी-देहरा ट्रॉम-वे कंपनी बनाई थी। इस कंपनी ने 23 लाख रुपये की लागत से मसूरी के लिए रेल लाइन बिछाने का काम शुरू किया था। अगर यह योजना जारी रह पाती तो यकीनन वर्ष 1928 तक रेल मसूरी पहुंच गई होती।

व्यापारियों का विरोध भी बना परियोजना के ठप पड़ने की वजह
बताया जाता है कि मसूरी रेल परियोजना के बंद होने की वजह तब दून के व्यापारियों का तीखा विरोध भी बना। दरअसल, परियोजना के रोड मैप के अनुसार रेल ट्रैक को हर्रावाला से शहंशाही आश्रम होते हुए ओकग्रोव स्कूल, झड़ीपानी, बार्लोगंज और कुलड़ी के पास हिमालय क्लब से होकर गुजरना था। उस दौर में देहरादून के इस पूरे हिस्से में चाय और बासमती धान की खेती बहुतायत में हुआ करती थी। ये दोनों ही नकदी फसलें तब व्यापार का प्रमुख जरिया थीं। इसे देखते हुए दून के व्यापारी हर्रावाला से सीधे मसूरी रेल लाइन बिछाने के विरोध में उतर आए। नतीजा, अंग्रेजों को कदम पीछे खींचने पड़े।

निर्माण कंपनी टोल तक ला चुकी थी पटरियां
रेल लाइन ले जाने के लिए राजपुर में शहंशाही आश्रम से कुछ आगे पुराने मसूरी टोल से आगे सुरंग बनाने का काम दो साल तक चला। बुजुर्ग बताते हैं कि वर्ष 1924 में सुरंग हादसे के बाद जब परियोजना का काम बंद हुआ, तब तक निर्माण कंपनी टोल तक पटरियां ला चुकी थी। सो, तय किया गया कि देहरादून से मसूरी तक इलेक्ट्रिक ट्रेन ट्रैक बनाया जाए और इस ट्रेन को ग्लोगी पावर हाउस से बिजली की सप्लाई दी जाए। लेकिन, यह सपना हकीकत में नहीं बदल पाया।

इसलिए हुई ओक ग्रोव स्कूल की स्थापना
मसूरी रेल लाइन बिछाए जाने की प्रत्याशा में तत्कालीन भारतीय रेलवे ने वर्ष 1888 में झड़ीपानी में ओक ग्रोव स्कूल की स्थापना की थी। इस स्कूल का संचालन आज भी उत्तरी रेलवे द्वारा किया जाता है। यहां मुख्य रूप से रेलवे कर्मचारियों के बच्चे पढ़ते हैं। स्कूल की इमारतों का निर्माण गोथिक शैली में हुआ है।

धरोहरों की सुध लेने वाला कोई नहीं
इससे बड़ी विडंबना क्या होगी कि हमारी सरकारें अतीत की धरोहरों का संरक्षण भी नहीं कर पा रहीं। इसी का नतीजा है कि अंग्रेजों की बनाई इस सुरंग के चारों ओर इस कदर झाडिय़ां उग आई हैं कि सुरंग कहीं नजर ही नहीं आती। सुरंग तक पहुंचने का रास्ता भी जमींदोज हो चुका है। सरकारें चाहे तो नई पीढ़ी के #ज्ञानवर्धन के लिए इस स्थान को #पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जा सकता था।

साभार-दिनेश कुकरेती जी

आलोक तोमर जी की facebook पोस्ट से एतिहासिक जानकारी साझा की गई है।

RELATED ARTICLES

मोदी सरकार के बजट ने आम लोगों को निराश किया : महर्षि, सिर्फ चुनावी राज्यों को देखते हुए पेश किया गया आम बजट

देहरादून। वरिष्ठ कांग्रेस नेता तथा पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी राजीव महर्षि ने केंद्र सरकार के संसद में पेश बजट को बेहद निराशाजनक और...

राज्य के स्कूलों में कम होगा बस्ते का बोझः डॉ0 धन सिंह रावत, NEP-2020 के तहत सभी शिक्षा बोर्ड करें विचार

देहरादून, स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये राज्य में संचालित सभी शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श कर कोई...

महाराज ने हास्पिटल सहित अपने क्षेत्र को दी 100 करोड़ 70 लाख की योजनायें, पंचायत भवनों के साथ छात्रावास का भी होगा क्षेत्र में...

एकेश्वर (पौडी)। प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र एकेश्वर...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

मोदी सरकार के बजट ने आम लोगों को निराश किया : महर्षि, सिर्फ चुनावी राज्यों को देखते हुए पेश किया गया आम बजट

देहरादून। वरिष्ठ कांग्रेस नेता तथा पार्टी के प्रदेश मीडिया प्रभारी राजीव महर्षि ने केंद्र सरकार के संसद में पेश बजट को बेहद निराशाजनक और...

राज्य के स्कूलों में कम होगा बस्ते का बोझः डॉ0 धन सिंह रावत, NEP-2020 के तहत सभी शिक्षा बोर्ड करें विचार

देहरादून, स्कूलों में बच्चों के भारी-भरकम बस्तों का बोझ कम करने के लिये राज्य में संचालित सभी शिक्षा बोर्ड के साथ विचार-विमार्श कर कोई...

महाराज ने हास्पिटल सहित अपने क्षेत्र को दी 100 करोड़ 70 लाख की योजनायें, पंचायत भवनों के साथ छात्रावास का भी होगा क्षेत्र में...

एकेश्वर (पौडी)। प्रदेश के पंचायती राज, पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, ग्रामीण निर्माण, जलागम, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र एकेश्वर...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से उत्तराखण्ड की झांकी मानसखण्ड के कलाकारों ने की भेंट, मुख्यमंत्री को महानिदेशक सूचना ने सौंपी झांकी को मिले प्रथम...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुख्यमंत्री आवास स्थित मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय में गणतंत्र दिवस पर विभिन्न राज्यों की झांकियों में उत्तराखण्ड की “मानसखण्ड” झांकी...

RPI (A) उत्तराखंड की टीम ने राष्ट्रीय अध्यक्ष से की मुलाकात, 25 फरवरी को रुड़की में होगा केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले का कार्यक्रम

रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया के प्रदेश अध्यक्ष सेठपाल सिंह, ज़िला अध्यक्ष अंकित कुमार, गढ़वाल मंडल सरवन कुमार और अन्य लोगों ने केंद्रीय मंत्री राम...

वक्फ बोर्ड की संपत्ति पर अवैध कब्जा करने वाले पूर्व सांसद पर केस दर्ज, पूर्व सांसद समेत अन्य 07 के खिलाफ नामजद मुकदमा हुआ...

यूपी के पूर्व सांसद अकबर अहमद डंपी सहित सात लोगों पर वक्फ बोर्ड की संपत्ति खुर्द-बुर्द और जाली दस्तवेजों से खरीद करने का आरोप...

उत्तराखंड पुलिस ने चलाया दो माह का महाअभियान, पुलिस की ताबड़तोड़ कार्यवाही से हत्थे चढ़े कई बदमाश

अशोक कुमार, पुलिस महानिदेशक, उत्तराखण्ड द्वारा दिनांक 01.12.2022 से फरार वांछित / इनामी अपराधियों की गिरफ्तारी एवं एनडीपीएस एक्ट / गैंगस्टर एक्ट में अवैध...

उत्तराखंड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन (इंटक) का हुआ अधिवेशन, नियमितिकरण व समान वेतन की लडाई के साथ निजीकरण के विरोध में भी संगठन होगा...

उत्तराखंड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन (इंटक) का एक सम्मेलन पौड़ी जनपद के कोटद्वार में मिलन बैडिंग प्वाइंट में आयोजित किया गया जिसमें संगठन के...

एक और “फर्जी भर्ती सेंटर” का हरिद्वार पुलिस ने किया भंडाफोड़, DM हरिद्वार की फर्जी ईमेल ID तैयार कर, अभ्यर्थियों को ईमेल के माध्यम...

*एक और "फर्जी भर्ती सेंटर" का हरिद्वार पुलिस ने किया भंडाफोड़* *जैतपुर लक्सर में चलाए जा रहे भर्ती सेंटर के 04 सक्रिय सदस्य दबोचे* *बेरोजगार युवाओं...

शहर में चलने वाली सिटी बसों में लगेगा व्हीकल लोकेशन ट्रेकिंग डिवाइस, परिवहन विभाग के फैसले के विरोध में उतरी सिटी बस महासंघ

परिवहन विभाग के एक फैसले ने देहरादून शहर की सिटी बस सेवा को परेशानी में डालने का काम किया है। सिटी बस महासंघ के...