Saturday, January 28, 2023
Home हेल्थ इस देश में सबसे पहले मिला था दलदली बुखार, जानें अब इसका...

इस देश में सबसे पहले मिला था दलदली बुखार, जानें अब इसका क्या नाम है

इस देश में सबसे पहले मिला था दलदली बुखार, जानें अब इसका क्या नाम है

नई दिल्ली। मलेरिया से हर साल लाखों लोग मरते हैं। दुनिया में फैली यह बिमारी मादा मच्छर के काटने से होती है। यह ऐसी बिमारी है जो परजीवी प्लास्मोडियम के कारण होती है। मलेरिया शब्द इटालियन भाषा शब्द ष्माला एरियाष् से बना है जिसका मतलब है श्बुरी हवाश्।

क्या आप जानते है कि मलेरिया का सबसे पुराना वर्णन चीन (2700 ईसा पूर्व) में मिलता है। मलेरिया को दलदली बुखार (डंतेी थ्मअमत) भी कहा जाता है। सन 1880 में मलेरिया का सबसे पहला अध्ययन चार्ल्स लुई अल्फोंस लैवेरिन वैज्ञानिक द्वारा किया गया था।

मलेरिया काफी गंभीर रोग के रूप में माना जाता है। इसके लक्षण हैं बुखार, कंपकंपी, पसीना आना, सिरदर्द, शरीर में दर्द, जी मचलना और उल्टी होना। कई बार बुखार पसीना आने से उतर जाता है परन्तु कुछ घंटों बाद फिर हो सकता है। परन्तु यह निर्भर करता है कि किस परजीवी के कारण मलेरिया हुआ है।

डायग्नोसिस

– मलेरिया का निदान ब्लड टेस्ट के द्वारा किया जाता है।

– रोगी के रक्त से स्लाइड बनाकर प्रशिक्षित डॉक्टर माइक्रोस्कोप के द्वारा प्लाज्मोडियम नामक पैरासाइट की जांच करते हैं।

– आजकल अत्याधुनिक तकनीक के द्वारा एंटीजेनरेपिड कार्ड टेस्ट से मलेरिया की डायग्नोसिस कुछ ही मिनटों में की जा सकती है।

बेहतर है बचाव

– मच्छर भगाने वाली क्रीम और स्प्रे का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

– मच्छरों को पनपने से रोकें। इसके लिए अपने आसपास सफाई का ध्यान रखें।

– अगर जल निकास संभव न हो तो कीटनाशक डालें।

– मलेरिया बहुल इलाकों में जाने वाले व्यक्तियों को सलाह दी जाती है कि वे कुछ सप्ताह या कुछ महीनों तक डॉक्टर की सलाह से मलेरिया से बचाव के लिए कुछ दवाएं ले सकते हैं।

– बारिश के दिनों में मच्छरों से बचने के लिए पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें। जैसे पूरी बाजू का कुर्ता और पायजामा आदि।

– मच्छर ठहरे हुए पानी में पनपते हैं। इसलिए बारिश के पहले ही नालियों की सफाई करवाएं और गड्ढे आदि भरवाएं।

– इस बीमारी से बचाव के लिए लोगों को जागरूक किया जाना जरूरी है। यह कार्य सरकारी तंत्र के अलावा डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ अच्छी तरह से कर सकता है।

– मलेरिया से बचाव का कोई टीका (वैक्सीन) अभी तक उपलब्ध नहीं है, पर इस पर अनुसंधान जारी है।

मलेरिया की सबसे कारगार दवा
समुचित इलाज न करने या लापरवाही बरतने पर मलेरिया जानलेवा हो सकता है। देश में हर साल हजारों लोग मलेरिया के संक्रमण से मर रहे हैं। इसलिए लक्षणों के प्रकट होते ही रोगी को शीघ्र ही डॉक्टर के पास ले जाकर जांच करवाएं। शीघ्र ही डायग्नोसिस और इलाज से मलेरिया से होने वाली जटिलताओं से बचा जा सकता है। मलेरिया में कई तरह की दवाओं का उपयोग होता है।

सबसे कारगर और डब्लूएचओ द्वारा मान्यता प्राप्त फर्स्ट लाइन दवा है- आर्टीमीसाइन कॉम्बिनेशन थेरेपी। यह दो दवाओं का मिश्रण है जो न केवल मलेरिया के रोगी को ठीक करती है बल्कि मलेरिया के रिलेप्स होने और इसे दूसरे व्यक्ति में फैलने से भी रोकती है। इसके अलावा क्लोरोक्वीन और सल्फा ड्रग आदि का भी इस्तेमाल होता है। बुखार उतारने के लिए पीड़ित व्यक्ति को पैरासिटामोल दें और शरीर में पानी की कमी को रोकने के लिए ज्यादा से ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ दें।

RELATED ARTICLES

धामी सरकार में स्वास्थ्य विभाग के लिए आई खुशखबरी, उत्तराखंड चिकित्सा सेवा चयन बोर्ड ने 824 स्वास्थ्य कार्यकर्ता (महिला) का अंतिम परिणाम किया जारी

देहरादून। स्वास्थ्य विभाग में महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के 824 पदों पर उत्तराखंड चिकित्सा सेवा चयन बोर्ड ने अंतिम रिजल्ट जारी कर दिया है। बेरोजगारों के...

अच्छी खबर : रुद्रप्रयाग में अगले 3 माह में तैयार हो जायेगी 42 बैड की कॉर्डियक केयर यूनिट, चारधाम यात्रियों और पहाड़ में हृदय...

रुद्रप्रयाग । रुद्रप्रयाग के दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव डॉ. आर. राजेश कुमार ने जिला अस्पताल...

सचिव स्वास्थ्य डॉक्टर आर राजेश कुमार का सख़्त एक्शन, CMO देहरादून समेत 04 CMO को भेजा कारण बताओ नोटिस

जैसा कि आप अवगत हैं कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तराखण्ड के अन्तर्गत आयुष्मान भारत हैल्थ एण्ड वैलनेस सेन्टर एक अत्यन्त महत्वकांक्षी कार्यक्रम है, जिसकी...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

नाबार्ड के अधिकारियों ने वित्तमंत्री प्रेमचंद अग्रवाल से की मुलाकात, राज्य की अनुसूचित जनजाति के उत्थान के लिए भी नाबार्ड करे काम: अग्रवाल

देहरादून, कैबिनेट मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल से नाबार्ड के अधिकारियों ने शिष्टाचार भेंट की। इस दौरान मंत्री डॉ अग्रवाल ने राज्य के विकास को...

हृदय रोगियों को मिले बेहतर उपचारः डॉ0 धन सिंह रावत, कोरोनेशन अस्पताल में मेडिट्रीना हार्ट सेंटर का विधिवत शुभारम्भ

देहरादून, जिला कोरोनेशन अस्पताल देहरादून में पीपीपी मोड़ में संचालित मेडिट्रीना ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल के हार्ट सेंटर में अब बच्चों की हार्ट सर्जरी सहित...

जिला पंचायत अध्यक्ष की मिलीभगत से हुआ नंदा राजजात जैसी धार्मिक और पवित्र यात्रा टेंडर प्रक्रिया में भ्रष्टाचार: महाराज, चमोली जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी...

देहरादून। नंदा राजजात जैसी धार्मिक और पवित्र यात्रा जिसमें श्रद्धालु दान देते हैं उसकी टेंडर प्रक्रिया में हेराफेरी और मिलीभगत बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। मामले...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लक्ष्मण विद्यालय इंटर कॉलेज, पथरीबाग में स्कूली बच्चों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग, विद्यार्थियों...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में देश के छात्र-छात्राओं, अध्यापकों एवं अभिभावकों से संवाद किया।...

राज्यपाल ने राजभवन और परेड ग्राउंड में फहराया राष्ट्रीय ध्वज, राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने सराहनीय सेवाओं के लिए किया पुलिस अधिकारियों को सम्मानित

* राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने सड़क हादसे में क्रिकेटर ऋषभ पंत की सहायता करने वाले चालक, परिचालक व अन्य दो लोगों को किया सम्मानित। *...

देहरादून में ’सामूहिक वन्देमातरम् गायन कार्यक्रम’ का आयोजन, हमारा देश विभिन्न सम्प्रदायों, भाषाओं, जातियों एवं संस्कृतियों से परिपूर्ण राष्ट्र है: सीएम धामी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमारा देश विभिन्न सम्प्रदायों, भाषाओं, जातियों एवं संस्कृतियों से परिपूर्ण राष्ट्र है। इन सभी अनेकताओं को एकता...

घायल क्रिकेटर ऋषभ पंत की मदद करने वाले हुए सम्मानित, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की घोषणानुसार सौंपा गई एक एक लाख की सम्मान राशि...

गणतंत्र दिवस के अवसर पर परेड ग्राउंड देहरादून में राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सड़क हादसे...

श्री बदरीनाथ धाम के कपाट इस यात्रा वर्ष 27 अप्रैल को खुलेंगे, राजमहल नरेंद्र नगर में आयोजित धार्मिक समारोह में कपाट खुलने की हुई...

नरेंद्र नगर/ ऋषिकेश। विश्व प्रसिद्ध श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 27 अप्रैल को प्रात: 7 बजकर 10 मिनट बजे खुलेंगे जबकि गाडू घड़ा तेल...

CM आवास में मनाया गया गणतंत्र दिवस, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया ध्वजारोहण

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री आवास में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। इस अवसर पर उन्होंने सभी को संविधान की...

दलित युवक की पिटाई के मुद्दे पर RPI (A) ने की चर्चा, इस तरह की घटना है बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण: सेठपाल सिंह

उत्तरकाशी में मन्दिर जाने से रोकने पर दलित युवक की पिटाई का मुद्दा लगातार गर्मा रहा है। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया आठवले के प्रदेश...