Thursday, May 23, 2024
Latest:
उत्तराखंड

ऊर्जा विभाग में बड़े आंदोलन की हलचल

देहरादून- कोविड-19 के मद्देनजर पूरे नियमों का पालन करते हुए दो गज की दूरी एवम मास्क पहन ऊर्जा निगम में कार्यरत सभी यूनियन पब्लिक ट्रेड यूनियन से संबंधित टीजी-2 एवं टीजी-1की संयुक्त बैठक ऊर्जा विभाग आराघर परिसर में आयोजित की गई। जिसमें सभी कर्मचारियों ने प्रबंधन के द्वारा तकनीकी कर्मचारियों के प्रति किए जा रहे भेदभाव पर रोष प्रकट किया।बैठक की अध्यक्षता सुनील पाल एवं संचालन दीपक शैली द्वारा किया गया बैठक को संबोधित करते हुए समिति के संयोजक आशीष सती ने बताया कि आठ वर्षों से लगातार टीजी-2 एवं टीजी-1 के कार्मिक अभियंता के पद पर पदोन्नति की राह देखते देखते ही कर्मचारी सेवानिवृत्त हो चुके हैं।प्रबंधन द्वारा पदोन्नति हेतु आवेदन मांगे अवश्य आते हैं, परंतु पदोन्नति नहीं की जाती है जिस वजह से कर्मचारियों में आक्रोश है अप्रेल 2020 में प्रबंधन द्वारा आवेदन अवश्य मांगे गए हैं परंतु समस्या जस की तस बनी हुई है। बैठक को संबोधित करते हुए दीपक मधवाल ने बताया कि सुनने में आया है कि प्रबंधन अवर अभियंता के पदों पर पदोन्नति हेतु पहुंचे सभी आवेदनों को चेक कराने हेतु चारों जोन कार्यालयों में भेजने की तैयारी कर रहा है जिससे स्पष्ट है कि यह प्रक्रिया को लंबा करने की साजिश है जबकि ये पद विभागीय कर्मचारियों द्वारा ही भरे जाने हैं और आवेदन पत्र उचित माध्यम द्वारा ₹10 के शपथ पत्र के साथ कर्मचारियों द्वारा भेजे गए हैं।इस अवसर पर बैठक को संबोधित करते हुए बहादुर सिंह द्वारा कहा गया कि इस पदोन्नति से विभाग को बहुत ज्यादा वित्तीय हानि नहीं होने वाली है क्योंकि सभी कर्मचारी लगभग उक्त वेतन तक पहले से ही पहुंच चुके हैं।उन्होंने प्रबंधन से परीक्षा की तिथि तत्काल घोषित करने एवं परीक्षा कराने का अनुरोध किया जिससे कर्मचारियों में रोष ना बढ़े। बैठक को संबोधित करते हुए किरण सिंह ने कहा कि बार-बार आवेदन मांगे जा रहे हैं लेकिन परीक्षा की तिथि आज तक घोषित नहीं की गई है,जबकि नई भर्ती के लिए अवर अभियंता के पदों की विज्ञप्ति निकालने की तैयारी चल रही है दूसरी ओर विभागीय कार्मिकों की पिछले 8 वर्षों से लगातार पदोन्नति की जा रही है जो कि प्रबंधन के भेदभाव व दोहरे रवैए को दर्शाता है।बैठक में सभी तकनीकी कर्मचारी टीजी-2 एवं टीजी-1ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया और ऊर्जा निगम तकनीकी संवर्ग संघर्ष समिति का गठन किया गया जिसमें सर्वसम्मति से आशीष सती को संयोजक मनोनीत किया गया। संयोजक आशीष सती ने बताया कि समिति संपूर्ण उत्तराखंड के टीजी-2 एवं टीजी-1 के कार्मिकों से संपर्क कर शीघ्र ही संघर्ष समिति से जोड़ने का प्रयास करेगी और इस समिति का भविष्य में विस्तार किया जाएगा।बैठक में दीपक सैनी, अनिल उनियाल, आशीष सती, दीपक मधवाल, सुनील मघवाल, परम सिंह चौहान,त्रिभुवन सिंह, रत्नेश भट्ट,खड़क बहादुर थापा,योगेश पांडे,सुनील धीमान, किरण सिंह आशीष,जगत राज, बहादुर सिंह, किशोर सिंह चौहान, धर्मेंद्र सिंह, विजय गोसाई, विनय बिष्ट, विजय पोखरियाल आदि उपस्थित थे इस दौरान कई कर्मचारियों ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में अपनी सहभागिता दर्ज कराई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *