Monday, June 24, 2024
Latest:
उत्तराखंडदेशपर्यटन

तीर्थनगरी ऋषिकेश में टाट वाले बाबा ने श्री राम मंदिर को समर्पित किए एक करोड़ रुपये

ऋषिकेश। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए श्रद्धालु अपनी अपनी क्षमता के अनुसार सहयोग कर रहे हैं। ऋषिकेश नीलकंठ पैदल मार्ग पर गुफा में रहने वाले एक संन्यासी ने समर्पण निधि के रूप में श्री राम मंदिर ट्रस्ट को एक करोड़ रुपये समर्पित किए हैं।

यमकेश्वर प्रखंड के मणि कूट पर्वत की तलहटी पर स्थित पौराणिक नीलकंठ महादेव मंदिर जाने वाले श्रद्धालु टाट वाले बाबा से भली भांति परिचित हैं। पैदल मार्ग पर टाट वाले बाबा की गुफा वर्षों से श्रद्धालुओं को भोजन प्रसाद और राहत उपलब्ध कराती आ रही है।

टाट वाले बाबा के शिष्य

स्वामी शंकर दास महाराज भी टाट वाले बाबा के नाम से मशहूर है। गुफा में रहने वाले संन्यासी स्वामी शंकर दास महाराज ने श्री राम मंदिर निर्माण के लिए समर्पण निधि के रूप में एक करोड़ रुपये ट्रस्ट के लिए उपलब्ध कराए हैं।

बुधवार को स्वामी शंकर दास महाराज ने एक करोड़ रुपये का चेक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संघ जिला संघचालक सुदामा सिंगल को सौंपा। इस अवसर पर स्वामी शंकर दास ने बताया कि उन्होंने यह निधि कई वर्षों से इसी कार्य के लिए जमा की हुई थी कि जिस दिन श्री राम मंदिर का निर्माण प्रारंभ होगा यह निधि मैं राम मंदिर के निर्माण के लिए दूंगा। 83 वर्षीय वयोवृद्ध संत स्वामी शंकर दास महाराज ऐसे व्यक्तियों में शामिल हैं, जिनके गुरु महर्षि महेश योगी, विश्व गुरु महामंडलेश्वर ब्रह्मलीन संत स्वामी मुनीषानंद महाराज, मस्तराम बाबा जैसे संतों के समकालीन थे।

वेद निकेतन के महामंडलेश्वर स्वामी विजयानंद सरस्वती ने बताया कि टाट वाले बाबा स्वामी शंकर दास महाराज ने सभी सुख सुविधाएं त्याग रखी थी। पिछले 40 वर्षों से वह श्री राम मंदिर के लिए पैसा बचाते आ रहे हैं। गुफा रूपी आश्रम में इन वर्षों में कई श्रद्धालु आए, दान और चढ़ावा देकर गए। टाट वाले बाबा मंदिर के लिए धन संग्रह करते रहे। आज जब अयोध्या में श्री राम मंदिर का निर्माण होने जा रहा है, तो उन्होंने उचित अवसर पाकर एक करोड़ रूपये समर्पण निधि में दिया है। इस अवसर पर स्टेट बैंक के मैनेजर विक्रम नेगी तथा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सदस्य रीतेंद्र चौहान मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *