Monday, May 27, 2024
Latest:
उत्तराखंड

केदारनाथ धाम को लेकर हवाई सेवा तैयार, एक अप्रैल से पिछले साल के किराए पर होगी बुकिंग शुरू

उत्तराखंड में चारधाम यात्रा को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। शासनस्तर पर बैठकों का दौर लगातार चल रहा है। वहीं केदारनाथ धाम के लिए हेलीसेवा की बुकिंग भी एक अप्रैल से शुरू हो जाएगी। शासन ने तय किया है कि पिछले साल के चयनित ऑपरेटर ही इस बार भी हवाई सेवा देने का काम करेंगे। बड़ी बात यह है कि किराया भी पिछली बार वाला ही लागू रहेगा। केदारनाथ धाम कपाट खुलने की तिथि नजदीक आने के साथ ही नागरिक उड़्डयन विभाग ने धाम में हवाई सेवा की तैयारी शुरू कर दी है। इसी क्रम में एक अप्रैल से हेली कंपनियों की बुकिंग शुरू की जा रही है। नागरिक उड्डयन सचिव दिलीप जावलकर ने बताया कि बुकिंग शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री की अनुमति प्राप्त हो गई है। जीएमवीएन के जरिए ही हेली टिकट की ऑनलाइन बुकिंग होगी। विभाग ने गत वर्ष चयनित ऑपरेटर से तीन साल तक सेवा देने का अनुबंध किया है, इस प्रकार पूर्व में तय ऑपरेटर, पिछले साल के किराए पर ही इस साल भी सेवाएं देंगे। 70 फीसदी टिकट ऑनलाइन उपलब्ध कराएं जाएंगे। पिछले साल कोविड के कारण शुरुआत में चार धाम यात्रा संचालित नहीं हो पाई थी। हालांकि बरसात के बाद करीब एक महीने धाम में हेली सेवाओं का संचालन हुआ। वहीं इस बार ज्यादा श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद जताई जा रही है।

केदारनाथ धाम में प्रति व्यक्ति एक तरफ के किराए पर नज़र डाले तो-  

गुप्तकाशी से – 3875
फाटा से – 2360
सिरसी से – 2340

हवाई सेवाओं के लिए बुकिंग को लेकर यात्रियों को वेबसाइट https://heliservices.uk.gov.in पर जाना होगा।

वहीं विश्व प्रसिद्ध केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई को भक्तों के लिए खोले जाएंगे। केदारनाथ धाम के कपाट खोलने के लिए भगवान भैरवनाथ की 13 मई को पूजा-अर्चना की जाएगी। बाबा केदार की चल विग्रह डोली पहले ऊखीमठ से प्रस्थान कर 14 मई कोफाटा विश्राम के लिए पहुंचेगी। जबकि 15 मई को  को गौरीकुंड और 16 मई को केदारनाथ धाम पहुंचेगी। 17 मई को सुबह पांच बजे भगवान केदारनाथ मंदिर के कपाट खोल दिए जाएंगे। केदारनाथ समेत चारधामों के कपाट हर साल अक्टूबर-नवंबर में सर्दियों में बंद कर दिए जाते हैं, जो अगले साल फिर अप्रैल-मई में भक्तों के लिए खोल दिए जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *